Satyashodhak Default Featured Image

टीम अन्ना का दिमाग ठिकाने पर है?

पिछले कुछ दिनोंमे समूचे भारतमें टीम अन्ना नामक एक दुनिया की सबसे बड़ी नाटक कंपनी को लोगोंके सामने नचाया जा रहा है. पुरे देश को ईमानदारी का पाठ पढ़ानेवाले टीम अन्ना के सदस्य अपनी काली करतुतोंकी वजहसे नंगे होकर भी बेशर्मो की तरह लोकतंत्र के नाम पर धब्बा लगाने का काम कर रहे है. भ्रष्टाचार विरोधी आन्दोलन के माध्यमसे इन टीम अन्ना के सदस्योने अपनी … Continue reading टीम अन्ना का दिमाग ठिकाने पर है?

Satyashodhak Default Featured Image

लोकपालाऐवजी व्यवस्थाच बदलण्याची गरज!

भ्रष्टाचार हे केवळ लक्षण आहे, खरा रोग इथल्या व्यवस्थेत आहे. ही व्यवस्था जोपर्यंत बदलली जात नाही तोपर्यंत लोकपाल काय अन्य कोणतेही कायदे आणले तरी भ्रष्टाचार कमी होणार नाही. अण्णांनी ही व्यवस्था बदलण्यासाठी आता एल्गार पुकारायला हवा. अनेक विचारवंत त्यांना योग्य सल्ला देण्यासाठी त्यांच्या पाठीशी उभे राहतील. लोकपाल विधेयकासाठी आपली सगळी शक्ती पणाला लावण्याचा अण्णांचा निर्धार पालथ्या घडयावर पाणी ओतण्यासारखा आहे. ही शक्ती त्यांनी योग्य दिशेला … Continue reading लोकपालाऐवजी व्यवस्थाच बदलण्याची गरज!

Satyashodhak Default Featured Image

अण्णा हजारे द्वारा प्रस्तावित जन लोकपाल विधेयक भारतीय जनतंत्र को खतरा!

आजकल भारत भर में एक ही चर्चा चलाई जा रही है, अण्णा हजारे का जन लोकपाल विधेयक के लिए किया गया अनशन. पुरे देश में ऐसा माहोल बनाया गया जैसे ये आज़ादी की दूसरी लड़ाई हो. अण्णा हजारे महाराष्ट्र के रालेगन सिद्धि नामक एक “गाँव” के सामाजिक नेता है. अण्णा हजारे को इतने दिनों तक कोई नहीं पहचानता था, लेकिन इन ५-६ दिनों अण्णा को … Continue reading अण्णा हजारे द्वारा प्रस्तावित जन लोकपाल विधेयक भारतीय जनतंत्र को खतरा!